स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज

यह तालिका आपको ऐसे बुकमेकर के बारे में बताती है जहां स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज भी मौजूद है। देखिए कहाँ बैक और ले दाँव लगाएँ और खुद बुकी कैसे बने ताकि इस बार और लोग आपकी शर्तों के अनुसार दाँव खेलें।

1xbet
1 User Reviews1xbet review
Betting Exchange
230% up to ₹9750
18+ T&C başvurusu | begambleaware.org | Sorumlu oyna

स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज क्या है?

मैच बेट्टिंग तभी संभव है जब एक एक्सचेंज की उपस्थिति हो। ऐसे स्पोर्ट्स एक्सचेंज निश्चित करते हैं कि आप अधिक रेटिंग वाले ऑनलाइन बुकमेकर की बजाय दूसरे खिलाड़ियों के खिलाफ़ दाँव लगा सकते हैं। वैकल्पिक रूप से आप खुद का अनुमान बना कर उस पर दाँव बना सकते हैं, और अन्य खिलाड़ी आपके अनुमान पर बैक और ले खेल सकते हैं। आप टीम A के सहयोग में उसके आॅड पर दाँव लगा सकते हैं(बैक)। और अब आपको सिर्फ इन्तेज़ार करना है किसी खिलाड़ी के आपके खिलाफ़ पैसे लगाने का (ले)। दूसरे शब्दों में कहें तो इस बार पक्की जीत हॉउस की नहीं बल्कि खिलाड़ियों की है।

अब आप सोच रहे होंगे कि इसमे बुकमेकर का क्या फ़ायदा, कोई बेट्टिंग साईट अपने संरक्षण में बेट्टिंग एक्सचेंज को समर्थन क्यों देगी। उत्तर काफी आसान है। जब भी आप शर्त पर पैसे लगाते हैं, बुकी आपके दाँव पर लगाए पैसे से से दलाली लेते हैं। दलाली का रेट ऑपरेटर द्वारा तय की गई प्रतिशत होता है। मूल बात फिर भी यही है कि आप बुकमेकर के नहीं बल्कि दूसरे खिलाड़ियों के खिलाफ़ चाल चलें।


बेट्टिंग एक्सचेंज में किन खेलों पर दाँव लगाया जा सकता है?

सामान्यतः जब खिलाड़ी स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज का नाम सुनते हैं, उनके खयाल में क्रिकेट आता है। इसमे कोई दो राय नहीं है कि वर्ल्ड कप जैसे इवेंट्स देश विदेश में प्रसारित होते हैं। हालाँकि क्रिकेट इकलौता खेल नहीं है जिस पर आप सट्टा लगा सकते हैं। निम्नलिखित कुछ अन्य उदाहरण हैं।

  • फुटबॉल
  • टेनिस
  • क्रिकेट
  • वालीबॉल
  • आइस हॉकी
  • टेबल टेनिस
  • हैंडबॉल
  • बास्केटबाॅल
  • बेसबाॅल

बेट्टिंग एक्सचेंज में किस तरह की शर्तें, आॅड और बाज़ार होते हैं?

जैसा कि हमने पहले कहा है कि खिलाड़ी स्पोर्ट्स शर्तों और बाज़ारों के बारे में सीमित चयन कर सकते हैं। जब आप अनुमान के सहयोग, या उसके खिलाफ में दाँव लगाते हैं तो आप किसी शर्त को सहयोग कर रहे होते हैं, या ले कर रहे होते हैं। यहां तीन तरह का बाज़ार मुमकिन है 1X2। आप टीम A की जीत पर दाँव लगा सकते हैं, टीम B की जीत पर दाँव लगा सकते हैं, या दोनों के ड्रॉ पर दाँव लगा सकते हैं। यहां स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज का सबसे अच्छा पहलू आता है, कि अगर आप किसी के अनुमान के खिलाफ़ दाँव लगाते हैं तो आप की जीत के मौके दोगुने हो जाते हैं।

उदाहरण:
अगर कोई खिलाड़ी टीम A की जीत पर दाँव लगाता है, और आप उसके खिलाफ दाँव लगाते हैं तो चाहे मैच ड्रॉ हो या टीम B विजयी हो , दोनों ही हालातों में आप दाँव जीतेंगे। .

अगर आॅड के बारे में सोचें तो स्पोर्ट्स एक्सचेंज में बेट्टिंग के लिए लाॅंग आॅड होते हैं, जिनका फ़ायदा सारे खिलाड़ियों को होता है। अच्छी शर्तों के यहाँ अक्सर मौजूद होने का कारण ये है कि यहां गुणक बुकी नहीं, खिलाड़ी तय करते हैं। इसीलिए स्काल्पिंग जैसी रणनीति स्पोर्ट्स एक्सचेंज के लिए उत्तम होती हैं। .


स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज के फ़ायदे व नुकसान?

स्पोर्ट्स बेट्टिंग एक्सचेंज चाहे कितने भी अच्छे दिखें, कमियां ज़रूर मौजूद होती हैं। कुछ मुख्य विशेषताएं और कमियां निम्नलिखित हैं।

  • विशेषताएं
  • किसी शर्त का समर्थन (बैक) या खिलाफ (ले) करने पर जोखिम कम होता है
  • यहां के आॅड अच्छी शर्तें प्रदान करते हैं
  • बाजारों और आॅड की पारदर्शिता
  • कम बाजारों की वजह से विश्लेषण और फैसला लेने में आसानी
  • स्काल्पिंग जैसी रणनीति जीतने की संभावना को बढ़ाते हैं
  • नुक़सान
  • बुकमेकर दलाली लेते हैं
  • बेट्टिंग एक्सचेंज अपने खिलाड़ियों को बोनस और प्रमोशन नहीं देतीं
  • अगर किसी ने आपकी शर्त पर दाँव नहीं लगाया वो लटक जाती है और, बाद में निल करदी जाती है